तकनीकी चिट्ठा

आपके जीवन के तकनीकी पहलुओं को छूने की कोशिश

इस चिट्ठे का प्रयोजन..

Posted by कमल on अप्रैल 17, 2007

नमस्कार पाठको !

इस चिट्ठे के माध्यम से मैं आप सब के सामने उन तकनीकी विषयों को रखना चाहता हूँ जो हमारे आम जिन्दगी को किसी ना किसी रूप में प्रभावित करते हैं या भविष्य में प्रभावित कर सकते हैं.

आप अपनी टिप्पणीयों के माध्यम से बता सकते हैं कि आप किन किन विषयों के बारे में जानना चाहते हैं .

तो प्रतीक्षा कीजिये अगली पोस्ट की..

कमल

Advertisements

7 Responses to “इस चिट्ठे का प्रयोजन..”

  1. आप ही कुछ खुलासा करें।

  2. Gyandutt Pandey said

    “आप किन किन विषयों के बारे में जानना चाहते हैं “
    आपके बारे में मित्र.

  3. kkarnatak said

    मित्र ,

    आप “मेरे बारे में” पर क्लिक करके मेरे बारे में पता कर सकते हैं.

  4. TechnoChithha me hamare Pandit ji kaphi kuch hamen bata rahe hain
    Chalo achha hai ab aap se bhi jankari milate rahegi
    sahkari hindi chittha jindabad !

  5. masijeevi said

    स्‍वागत है मित्र

  6. कमल जी स्वागत है आपका हिन्दी चिट्ठाजगत में। यह बहुत खुशी की बात है कि आप तकनीकी विषयों पर लिखने जा रहे हैं। हिन्दी में इस विषय में लिखने वाले बहुत कम हैं। शुरुआत तो कई लोगों ने की लेकिन पाठकों की वांछित प्रतिक्रिया न मिलने से ठंडे पड़ गए। अतः एक बात आपसे कहना चाहूँगा कि फिलहाल आप इस काम को हिन्दी सेवा के तौर पर करें। आपको तकनीकी लेखन बारे अपने अनुभव से कुछ सुझाव दूँगा, उम्मीद है उन्हें पॉजिटिवली लेंगे।

    १. ऐसे विषयों पर लिखें जो कि बहुजन हिताय हों। आपके पाठकों के लिए उपयोगी हों, उनकी रुचि के हों। ऐसे विषय न लिखें जो उनके लिए उपयोगी न हों अथवा बहुत ही जटिल किस्म के हों।

    २. तकनीकी लेखन में भाषा एकदम सरल और रुचिकर रखें। साथ ही लंबी पोस्ट को छोटे-छोटे हिस्सों में बांट लें। इससे पाठक की मानसिकता पर पॉजिटिव असर पढ़ता है और वो लंबे लेख पढ़ने से घबराता नहीं।

    ३. तकनीकी लेखन में टिप्पणी का मोह त्यागें। कर्मण्येव वाधिकारस्ते के फॉर्मूले पर चलते हुए बस लिखते जाएं। टिप्पणी आएं तो ठीक न आएं तो ठीक।

    ४. लेखों में सरल से जटिल की ओर अर्थात from concrete to abstract के तरीके पर चलें। कुछ इस तरह से कि लेख को दो हिस्से में बांट लें। पहले हिस्से में आम पाठक के लिए उपयोगी और उसे समझ आने वाली बात दूसरे हिस्से में उसका तकनीकी थ्योरिटिकल पहलू।

    बाकी उम्मीद है कि निरंतर लिखते रहेंगे।

  7. ePandit said

    अरे हाँ एक बात और, मेरा विचार है कि तकनीकी लेखन के लिए वर्डप्रैस.कॉम प्लेटफार्म उपयुक्त नहीं क्योंकि इसमें काफी बंदिशें हैं, इसीलिए मैंने वर्डप्रैस.कॉम से ब्लॉगर पर शिफ्ट किया था। इस बारे में मेरी यह पोस्ट पढ़ें।

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: